Home Loan Sanction Letter को लोन सेंक्शन लेटर या फिर लोन स्वीकृति पत्र भी कहा जाता है ,अगर आप भी भविष्य में घर लेने की सोच रहें हैं तो होम लोन की प्रक्रिया को समझना बहुत ही जरुरी है | 

अगर आप भी भविष्य में घर लेने की सोच रहें हैं तो होम लोन की प्रक्रिया को समझना बहुत ही जरुरी है |

क्योकिं बिना इस प्रक्रिया के आप लोन को प्राप्त नहीं कर सकते हैं ?

होम लोन के लिए आवेदन करने के बाद लोन की स्वीकृति सबसे महत्वपूर्ण चरण है ,क्योंकि यह तब होता है जब आपके लोन को approve या फिर disapprove कर दिया जाता है | 

होम लोन के लिए आवेदन करने के बाद में यह प्रक्रिया शुरू हो जाती है |बैंक आवेदन करने वाले के दस्तावेजों को सत्यापित करते हैं 

जब ये दस्तावेज सभी मापदंड को पूरा कर लेते हैं तो आवेदक को लोन के लिए approve करने का निर्णय लिया जाता है |  

इसके बाद में लोन देने वाली कंपनी Home Loan Sanction Letter या फिर स्वीकृत पत्र जारी करता है | ये दस्तावेज इस बात की गारंटी देते हैं कि आप लोन लेने के लिए पात्र हैं | 

लोन सैंक्शन लेटर एक प्रकार का दस्तावेज है जो लोन कंपनी के द्वारा लोन लेने वाले ब्यक्ति को प्रदान किया जाता है ,इसका मतलब यह होता है आवेदक लोन लेने के लिए पात्रता को पूरी कर चूका है | 

इसमें कुछ नियम और शर्त भी हैं जिसके आधार पर ही आपको लोन प्रदान किया जायेगा  

नियम जानने के लिए नीचे क्लिक करें 

होम लोन को प्राप्त करना एक बहुत लम्बी प्रक्रिया है ,लोनधारक को लोन प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों को जमा करना होता है  

क्रेडिट ब्यूरो के माध्यम से ये पता लगाते है कि आवेदन कर्ता की साख क्या है ?इसके साथ ही उसकी संपत्ति की हैसियत क्या है ये भी चेक करते हैं | 

अगर लोन देने वाली कंपनी इन सबसे संतुष्ट होती है तब वह Home Loan Sanction Letter ( लोन सेंक्शन लेटर )  की स्वीकृति प्रदान करती है और लोन approve हो जाता है |  

अमूमन लोन की राशि को मिलने में कुछ समय लग सकता है ,इसका कारण दस्तावेजों के सिद्ध होने में देरी या जानकारी की कमी भी हो सकती है ,जिसकी वजह से लोन को रोका भी जा सकता है | 

अगर आप का क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो यह आपको लोन लेने में सहायता कर सकता है | 

क्रेडिट स्कोर जानने के लिए क्लिक करें